free hit counter
शिकारी को सबक

शिकारी को सबक


Spread the loveएक शिकारी ने बहुत से जानवरों का शिकार किया था खासतौर पर वह खरगोशों का शिकार अक्सर किया करता था वह खरगोश को पकड़ता बड़े से चाकू से उनको मारता और भूनकर खा जाता था यह सत्य है कि हर पापी के पापों का घड़ा एक दिन अवश्य ही भरता है एक बार की बात है कि उस शिकारी ने जंगल से एक खरगोश पकड़ा और अपने गांव की ओर चल दिया उसने खरगोश को कानों से पकड़ रखा था रास्ते में एक पेड़ के नीचे एक मुनी बैठा था उसे खरगोश की दुर्दशा पर दया आ गई


Spread the love
September 20, 2020
मूर्ख बिल्लियां

मूर्ख बिल्लियां


Spread the loveसड़क पर एक रोटी पड़ी हुई थी तभी एक बिल्ली की नजर उस रोटी पर पड़ी लेकिन जब तक वह उस रोटी के निकट पहुँचती कि तभी एक दूसरी बिल्ली ने उस पर झपट्टा मारा और अपने कब्जे में कर लिया दोनों बिल्लियां आपस में झगड़ पड़ी दोनों ही उस रोटी पर अपना – अपना हक जताने लगी काफी देर तक लड़ने झगड़ने के बाद एक बिल्ली ने सुझाव देते हुए कहा हम इस रोटी को आधी – आधी बांट लेती हैं मैं इस के दो टुकड़े कर देती हूं एक तुम ले लेना और एक मैं तुम


Spread the love
September 19, 2020
गाय का मालिक कौन ?

गाय का मालिक कौन ?


Spread the loveएक किसान था उसका नाम धर्मपाल था उसके पास एक दुधारू गाय थी जो सुबह – शाम दूध देती थी धर्मपाल उस गाय का दूध बेचकर काफी धनी हो गया था एक बार गाय बीमार पड़ गई और उसने दूध देना छोड़ दिया धर्मपाल ने सोचा कि गाय अब स्वस्थ तो हो नहीं सकती इसलिए वह उसे जंगल में छोड़ आया, लेकिन गाय अपने स्वभाववश धर्मपाल के पास वापस लौट आई उसने पुनः लाठी मार – मार कर उसे भगा दिया  गाय भटकती हुई पड़ोस के गांव में एक अन्य किसान माधव के खेत में जाकर बेहोश हो


Spread the love
September 19, 2020
चोर-चोर मौसेरे भाई

चोर – चोर मौसेरे भाई


Spread the loveद्धापर नगर में द्रोण नामक एक गरीब ब्राह्मण रहता था ब्राह्मण को जिस दिन भिक्षा अच्छी मिल जाती उस दिन उसका सारा परिवार भरपेट भोजन करता और जब भिक्षा नहीं मिलती तब पूरे परिवार को भूखे पेट सोना पड़ता उसने या उसके परिजनों ने जीवन में ना कभी अच्छे वस्त्र पहने थे और ना कभी बढ़िया भोजन ही किया था निर्धनता के कारण वहां मैला कुचैला ही रहता था उसके सर और दाढ़ी के बाल ही नहीं बल्कि हाथ पांव के नाखून भी बढे रहते थे ब्राह्मण की इस दशा पर तरस खाकर एक यजमान ने उसे  दो


Spread the love
September 13, 2020
राजा और साधु

राजा और साधु


Spread the loveएक राजा था उसे अपनी प्रशंसा सुनने का बड़ा शौक था एक बार उसने एक भव्य और मजबूत महल का निर्माण करवाया सभी ने उस महल की खूब प्रशंसा की प्रशंसा सुनकर राजा बड़ा प्रसन्न हुआ एक बार की बात है कि राजा के उस महल में एक महात्मा पधारे राजा ने महात्मा की खूब सेवा – टहल की सेवा – टहल करने के बाद राजा ने उन्हें अपना पूरा महल दिखाया लेकिन महात्मा ने महल के विषय में कोई टिप्पणी नहीं की जबकि राजा चाहता था कि महात्मा उसके महल के बारे में कुछ बोले महल की


Spread the love
September 12, 2020
गधे का बंधन

गधे का बंधन


Spread the loveएक  कुम्हार के पास कई गधे थे रोज सुबह जब वह गधों को मिट्टी लाने के लिए ले जाता तब एक जगह कुछ देर के लिए आराम करता था वह सभी गधों को पेड़ से बांध देता और खुद भी एक पेड़ के नीचे लेट कर सुस्ताने लगता था एक दिन की बात है कि जब वह मिट्टी लेने जा रहा था तब गधों को बांधने वाली रस्सी छोटी पड़ गई विश्राम स्थल पर उसने सभी गधे बांध दिए लेकिन एक गधा बंधने से रह गया वह उसका कान पकड़ कर बैठ गया अब ना कुम्हार आराम कर


Spread the love
September 11, 2020
अनोखा अतिथि सत्कार

अनोखा अतिथि सत्कार


Spread the loveबहुत समय पहले की बात है कि एक घने वन में क्रूर बहेलिया अपने शिकार की खोज में इधर-उधर भटक रहा था सुबह से शाम तक भटकने के बाद एक कबूतरी जैसे – तैसे उसके हाथ लग गई कुछ क्षणों बाद तेज वर्षा होने लगी सर्दी से कांपता हुआ बहेलिया वर्षा से बचने के लिए एक वृक्ष के नीचे आकर बैठ गया कुछ देर बाद वर्षा थम गई उसी वृक्ष की शाखा पर बैठा कबूतर अपनी कबूतरी के वापस लौटकर ना आने से दुखी होकर विलाप कर रहा था पति के विलाप को सुनकर उसे वृक्ष के नीचे


Spread the love
September 10, 2020
जादुई पतीले का रहस्य

जादुई पतीले का रहस्य


Spread the loveएक किसान को अपने खेत में खुदाई के दौरान एक बहुत बड़ा पतीला मिला वह पतीला इतना बड़ा था कि उसमें एक साथ  पांच सौ लोगों के लिए चावल पकाए जा सकते थे किसान के लिए वह पतीला बेकार था उसने वह पतीला एक तरफ रख दिया और पुनः खुदाई करने में जुट गया कुछ देर बाद किसान आराम करने के लिए बैठ गया उसने अपना फावड़ा उस पतीले में डाल दिया और आराम करने लगा आराम करने के बाद जब उसने पतीले में से फावड़ा निकालना चाहा तो उसमें से एक – एक करके सौ फावड़े निकले


Spread the love
September 10, 2020
सुपारी का चमत्कार विक्रम और बेताल

सुपारी का चमत्कार


Spread the loveविक्रम तो हटी था ही उसने इस बार भी बेताल को पकड़कर अपने वश में कर लिया बेताल ने नई कहानी सुनानी आरंभ की…. प्राचीन काल में कुसुमावती नगर पर सुविचार नामक राजा राज करता था राजा की एक पुत्री थी चंद्रप्रभा वह बहुत सुंदर थी अक्सर शाम को वह अपनी सखियों के साथ बाग में सैर करने जाया करती थी एक दिन जब चंद्रप्रभा बाग में सैर कर रही थी तब वहां उसकी भेट एक ब्राह्मण युवक मनस्वी से हुई मनस्वी भी उसी नगर में रहने वाले एक ब्राह्मण चंद्रदेव का पुत्र था रूप रंग तथा गुण


Spread the love
September 9, 2020
असफल तपस्या विक्रम और बेताल

असफल तपस्या विक्रम और बेताल


Spread the loveविक्रम ने भी ठान रखी थी कि वह बेताल को साधु के पास ले जाकर ही दम लेगा अतः उसने इस बार भी बेताल को वश में किया और कंधे पर लाद कर चल दिया इस बार बेताल ने यह कहानी सुनाई….. उज्जैन नगरी में वासुदेव नामक एक ब्राह्मण रहता था उसका एक पुत्र था गुणाकर  वासुदेव ने अपने पुत्र को पढ़ा लिखा कर योग्य शास्त्री बना दिया था किंतु गुणाकर को यह सब रास ना आया क्योंकि दुव्यसनो ने उसे चारों ओर से घेर रखा था वासुदेव ने अपने पुत्र को सही राह पर लाने का बहुत


Spread the love
September 6, 2020

hindi stories for kids हाथी और चूहे

Spread the love

हाथी और चूहे

,d LoPN ehBs ikuh ls Hkjh xgjh >hy ds fdukjs ,d lqanj egy Fkk fnu chrrs x, egy esa jgus okys yksx egy NksM+ & NksM+ dj  tkus yxs vkSj ,d fnu ogh cM+k egy VwV dj fxj x;k og ,d [kaMgj cu dj jg x;k dqN fnu i’pkr ikl ds taxy esa jgus okys pwgksa dk lewg ml  /oLr egy ds ikl ls xqtjk os ml [kaMgj egy dks ns[kdj cgqr [kq’k gq, vkgk ;g txg gekjs jgus ds fy, fdruh cf<+;k gS & ^*pwgk ds ljnkj us dgk** ;gka ge ‘kkafr ls jg ldrs gSa ‘kh?kz gh pwgksa us egy ds dksus & dksus esa vius ?kj cuk fy, vkSj vkjke ls ogka jgus yxs ,d fnu gkfFk;ksa dk >qaM m/kj ls xqtjk muds lkFk ,d cgqr cM+k gkfFk;ksa dk ljnkj Hkh Fkk mUgsa >hy ds LoPN ikuh dh lqxa/k vkbZ og mRlkfgr gksdj ikuh dh rjQ Hkkxs os HkjisV ikuh ihuk pkgrs Fks blfy, os cM+h ‘kh?kzrk ls egy ds [kaMgj ds chp ls Hkkxs ,slk djus ls cgqr ls pwgs muds iSj rys vkdj dqpys x, dqN ej Hkh x, pwgs vkjke ls vius ?kj esa lks jgs Fks bl vkQr ds vkus ij cps gq, lc pwgs bdëk gq, vkSj mUgksaus vius dks bl foifÙk ls cpkus ds fy, mik; [kkstus ds fy, lHkk cqykbZ dqN pwgksa us vius ljnkj ls dgk &**;g cM+s tkuoj vc ckj&ckj bl >hy dk ikuh ihus ds fy, ;gka vk,¡xs ftruh ckj Hkh ;gka vk,¡xs mruh ckj ge esa ls fdrus gh muds iSj ds uhps nc dj ej tk,axs vkSj fdrus dqpys Hkh tk,axs ge ;g lc ugha gksus nsuk pkgrs pwgs ds ljnkj us mudh ckr eku yh ij bu ls yM+k dSls tk, ;g ge ls yM+kbZ esa fdrus cyoku gSa ge muls vPNs O;ogkj vkSj n;k dh çkFkZuk gh dj ldrs gSa ,slk fopkj djds lkjs pwgs ,d drkj esa gksdj gkfFk;ksa ds ljnkj ls feyus py iM+s gkFkh ds ljnkj us /;ku ls mudh ckr lquh mUgksaus dgk ge vkjke ls o”kksaZ ls bl VwVs&QwVs egy esa jg jgs Fks vkids gkfFk;ksa ds >qaM us >hy ij tkus ds fy, gesa jkSan Mkyk vkius lSdM+ksa pwgksa dks ekj Mkyk  vxj ;gh lc pyrk jgk rks ,d Hkh pwgk ftank uk cpsxk vki ge ij —ik dhft, vkSj vius lkfFk;ksa dks fdlh nwljs jkLrs ls >hy ij ys tk,a ljnkj th ! D;k ekywe ge NksVs çk.kh Hkh fdlh fnu vkids dke vk tk, cM+s gkFkh dk fny pwgksa dh ckr lqudj fi?ky x;k mlus dgk &^*Bhd gS esjs lkjs lkFkh nwljs jkLrs ls >hy ij tk;k djsaxs gesa irk ugha Fkk fd vki pwgksa us bl egy esa vius ?kj cuk j[ks gSa vc ge rqEgsa fcYdqy rax ugha djsaxs pwgs ;g lc lqudj cgqr [kq’k gq, vkSj ‘kkafr iwoZd vius vius ?kj pys x, le; blh çdkj xqtjrk jgk ,d fnu ogka ds jktk us gqDe fn;k fd lc gkfFk;ksa dks tky esa ck¡/kdj ys vk;k tk, vkSj mUgsa jktk dk dke djus dh f’k{kk nh tk, jktk ds vknfe;ksa us taxy esa tkdj lkjs gkfFk;ksa ds fy, tky fcNk fn, tc gkFkh ikuh ihus ds fy, >hy dh rjQ pys rc ,d dks NksM+dj lHkh gkFkh tky esa Qal x, gkFkh tksj&tksj ls ph[kus  fpa?kkM+us yxs os vius vki dks eksVh jLlh ls NqM+kus dh dksf’k’k djus yxs ij dqN ykHk uk gqvk og iDdh jfLl;ksa ls ca/ks Fks rc gkfFk;ksa ds ljnkj dks egy ds [kaMgjksa esa jgus okys pwgksa dh ;kn vkbZ mlus cps gq, gkFkh ls dgk &^*rqe tYnh ls pwgksa ds ikl tkvks vkSj mUgsa gekjh gkyr crkvks os gekjh enn dj ldrs gSa pwgs ds ljnkj ls dguk fd eSaus rqEgsa Hkstk gS gkFkh tYnh gh pwgksa ds ikl igqapk vkSj muds ljnkj dks lc gkfFk;ksa dh gkyr dk lekpkj lquk;k pwgksa ds ljnkj us lc pwgksa dks cqyok;k vkSj gkfFk;ksa dks cpkus dk dk;Z lkSaik pwgs gj ,d dksus ls fudydj gtkjksa dh la[;k esa bdëk gks x, cM+s pwgs NksVs&pwgs eksVs&pwgs irys&pwgs cw<+s&nknk Hkwjh ewNksa okys pwgs vkSj NksVs rkdroj pwgs lHkh vius usrk ds lkFk tYnh tYnh  tky esa Qals gkfFk;ksa ds >qaM ds ikl tkus dks rS;kj gks x, ‘kh?kz gh lc pwgs vius NksVs vkSj uqdhys nkarks ls eksVh jfLl;ksa dks dqrjus yxs tYn gh lkjh jfLl;k VwV dj uhps fxj x;h vkSj gkFkh vktkn gks x;s mUgksaus vius NksVs fe=ksa dk /kU;okn fd;k fQj lHkh  vkjke ls taxy dh vksj pys x, gkfFk;ksa ds ljnkj us vius lHkh lkfFk;ksa dks cqyk dj dgk ns[kks ge fdrus cM+s vkSj rkxroj tkuoj gSa fQj Hkh gesa NksVs vkSj fouez pwgksa us cpk;k mudh ,d ckj lgk;rk djus ls gekjk thou cp x;k vU;Fkk ge lHkh idM+s tkrs

 

 


Spread the love

About The Author

Reply